A Poem of Finding your True Self & Love-Pursuit-परसूट

A Poem of Finding your True Self & Love-Pursuit-परसूट



 A Poem of Finding your True Self & Love-Pursuit-परसूट


मैं तुम्हें उस वक़्त कुछ देना चाहूँगा

जब मेरे पास कुछ भी नहीं होगा,

ये वो वक़्त होगा जब तुम मुझमें 

उस चीज़ को तलाशोगी जो मुझमें बची होगी 

या यूँ कहूं वो आख़िरी चीज़ जो मेरे पास होगी,


जब मेरे पास कुछ नहीं होगा,


उस वक़्त मैं भी मुझमें कुछ तलाशूँगा कि

मुझमें अब बचा क्या है तुम्हें देने के लिए,


यही वो वक़्त होगा जब तुम मुझे जानोगी,

यही वो वक़्त होगा जब,


मैं ख़ुद को पहचानूँगा।


-----------------------------------------------------------------------------------------------------------------


परसूट(Pursuit) मतलब लक्ष्य। लक्ष्य किसी मुक़ाम तक पहुँचने का, लक्ष्य ख़ुद को पहचानने का या लक्ष्य अपने प्यार के लिए सब कुछ न्योछावर कर देने का। ये नज़्म प्यार के लिए सब कुछ न्योछावर कर देने और ख़ुद को पाने की दास्तान बयां करती है। उम्मीद करता हूँ मेरी यह नज़्म आपको अच्छी लगी होगी। अगर हाँ तो कमेंट सेक्शन में ज़रूर बताएँ, इसे ज़्यादा से ज़्यादा शेयर भी करें।ऐसे ही कुछ नयी सुकून भरी नज़्मों को और शिक्षात्मक(educational) ब्लॉग को पढ़ने के लिए ज़रूर विज़िट करें मेरी वेबसाइट www.utkarshmusafir.com पर।


अगर इस आर्टिकल में कोई कमी या ख़ामी नज़र आती है तो आप मुझे ज़रूर बताएँ। आप मुझे -मेल कर सकते हैं contact@utkarshmusafir.com पर या Contact Us पर भी आप मुझसे सम्पर्क कर सकते हैं। 


Utkarsh Khare 'Musafir'

Utkarsh Khare 'Musafir' is a Urdu Poet & Blogger. He has written various beautiful Urdu poetries & so many informative & motivational Blog. Some of his famous poetries also available in the major online platforms i.e. Rekhta. He is a graduate in Information Technology. He is a banker by profession. His first published book is ‘IK POSHIDA DARIYA NAZM’O KA’. Which is very famous in Urdu Poetries readers community. He is very enthusiastic and jolly by nature. He likes travelling and he loves nature. And after reading his poetries you will also feel that he is a keen lover of nature.

Previous Post Next Post